सोमवार, 16 फ़रवरी 2009

ग़ज़ल- 3

अक्सर तेरे ख्याल से बाहर नहीं हुआ
शायद यही सबब था मैं पत्थर नहीं हुआ।

महका चमन था, पेड़ थे, कलियाँ थे, फूल थे,
तुम थे नहीं तो पूरा भी मंज़र नहीं हुआ।

माना मेरा वजूद नदी के समान है,
लेकिन नदी बगैर समंदर नहीं हुआ।

जिस दिन से उसे दिल से भुलाने की ठान ली,
उस दिन से कोई काम भी बेहतर नहीं हुआ।

साए मैं किसी और के इतना भी न रहो,
अंकुर कोई बरगद के बराबर नहीं हुआ।

10 टिप्‍पणियां:

  1. हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका हार्दिक स्वागत है. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाऐं.

    एक निवेदन: कृप्या वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें तो टिप्पणी देने में सहूलियत होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका स्वागत है ब्लॉग जगत में ,और आपके निरंतर लेखन के लिए मेरी हार्दिक शुभकामनाएं ........

    उत्तर देंहटाएं
  3. साए मैं किसी और के इतना भी न रहो,
    अंकुर कोई बरगद के बराबर नहीं हुआ।

    भावनाओं की सुंदर प्रस्तुति. स्वागत.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
    सुन्दर रचना के लिए शुभकामनाएं
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. aapki gajal padkar to vastav me aanand ki abhibhuti hui krpyaa aisaa hi likhte rahiye taaki blog jagat me aapkaa naam ho ,krpyaa mere blog ko bhi dekhne ki krpaa kare ,aapko aapki ruchi ke anusaar sab kuchh milegaa aik baar blog par jaakar to dekhiye aapkaa bahut bahut dhanyvaad

    उत्तर देंहटाएं
  7. hausla badhane ke liye shukria. main apke blog zaroor parunga. chetan anand

    उत्तर देंहटाएं