बुधवार, 2 दिसंबर 2009

हमेशा साथ में रखना

ये तो ताज़ा हवाएं हैं, हमेशा साथ में रखना
ये मौसम की अदाएं हैं, हमेशा साथ में रखना,
नसीहत, चाहतें, आशीष, नुस्खे, झिडकियां, ये सब-
बुजुर्गों की दुआएं हैं, हमेशा साथ में रखना।

1 टिप्पणी:

  1. बहुत ख़ूब
    बधाई और शुभ कामनाएँ
    'तुम्हारी याद में'
    एक शेर मैं भी कहता चलूँ

    तुम्हारी याद में नमनाक हो गईं आँखें
    चलो ये अच्छा हुआ पाक हो गईं आँखें

    उत्तर देंहटाएं