सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गीत -- अभी तो और चलना है

मेरी सोई हुई पीढ़ी,
उठो फिर से संभलना है,
यही मंजिल नहीं अपनी,
अभी तो और चलना है।

सितारे गुम हैं अम्बर से,
जुदा हर शाख तरुवर से,
सभी वातावरण बिखरा,
सितारों का चमन बिखरा,
सितारों को उगाना है,
चमन फिर से सजाना है,
नए श्रम के नगीने से,
कि अपने ही पसीने से,
तुम्हें अब प्यार से ही,
नफरतों का रुख बदलना है।
यही मंजिल नही अपनी,
अभी तो और चलना है।

ज़रूरत चेतना की है,
ज़रूरत साधना की है,
ज़रूरत एकता की है,
समन्वय वंदना की है,
बनो मुस्कान की दुनिया,
नई पहचान की दुनिया,
अकेली गूँज से हटकर,
बनो सहगान की दुनिया,
अँधेरी राह में सूरज,
तुम्हें बनकर निकलना है।
यही मंजिल नहीं अपनी,
अभी तो और चलना है।

टिप्पणियाँ

  1. खूबसूरत.......प्रेरणा दायक, वीरता से भरी ओजपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर.. ये मेरे लिए काफी सम्मान की बात है की आप जैसे ज़हीन इंसान ने मेरे ब्लॉग को पढ़ा. धन्यवाद.. आप भी काफी अच्छा लिखते है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhaut pyara geet likha hai aap sada hi itna achha likthe rahe

    Harikishan

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्यार के दोहे

प्यार युद्ध, हिंसा नहीं, प्यार नहीं हथियार,
प्यार के आगे झुक गईं, कितनी ही सरकार।

प्यार कृष्ण का रूप है, जिसे भजें रसखान,
प्यार जिसे मिल जाये वो, बन जाये इंसान।

प्यार हृदय की पीर है, प्यार नयन का नीर,
ढाई आखर प्यार है, कह गए संत कबीर।

प्यार न समझे छल-कपट, चोरी, झूठ या लूट,
प्यार पवित्र रिश्ता अमर, जिसकी डोर अटूट।

प्यार में ओझल चेतना, प्यार में गायब चैन,
प्यार अश्रु अविरल-विकल, जिसमें भीगें नैन।

ग़ज़ल

ऐसा भी कोई तौर तरीका निकालिये।
अहसास को अल्फाज़ के सांचे में ढालिये।।

जलता रहे जो रोज़ ही नफ़रत की आग में,
ऐसा दिलो दिमाग़ में रिश्ता न पालिये।।

दीवार रच रही है बांटने की साजिशें,
उठिये कि घर संभालिये, आंगन संभालिये।।

सोया है गहरी नींद में बहरा ये आसमां,
तो चीखिये, आवाज़ के पत्थर उछालिये।।

फाक़ाकशी में भूख लगी तो यही किया,
हमने ये अश्क पी लिये, ये ग़म ही खा लिये।।

- चेतन आनंद

मुक्तक

यूँ भी हुए तमाशे सौ।
पाया एक, तलाशे सौ।
जब भी उसका नाम लिया,
मुंह में घुले बताशे सौ।

यूँ समझो था ख्वाब सुनहरा याद रहा।
मुझे सफ़र में तेरा चेहरा याद रहा।
कैसे कह दूँ तेरी याद नहीं आई,
रस्ते भर खुशबु का पहरा याद रहा.